पतजड

पतजड शुरु हुई नहीं की,
सारे पत्ते सजने लगते है, रंग-बी-रंगी,
सारे भडकीले रंग – पीला, लाल, गुलाबी!
शोर करने लगते है, अपने सुखेपन का ।
कोइ समझाये उन्हे, चुप्पी ठाने – शोक मनाये,
कोइ बतलाये उन्हे, सफेद पहनने का रीवाज है यहां…
एसे भी करता है क्या कोइ, मौत की तैयारी?

– आदित

पतजड

IMAG0050